राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण : आज की इस पोस्ट में डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण, थार्नवेट का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण, ट्रिवार्था का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण के बारे में विस्तृत लेख लिखा गया है। इसमें आप सभी के हमेशा के सवाल कोपेन का जलवायु वर्गीकरण PDF, कोपेन का जलवायु वर्गीकरण राजस्थान Aw, राजस्थान में कोपेन का जलवायु वर्गीकरण, कोपेन का जलवायु वर्गीकरण  इन हिंदी, थार्नवेट का जलवायु वर्गीकरण, ट्रिवार्था का जलवायु वर्गीकरण आदि से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य शामिल किये गए है। आप इसको पूरा जरूर पढ़ें:- 
डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन, थार्नवेट तथा ट्रिवार्था के अनुसार राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण
राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण 

डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण

जर्मनी के प्रसिद्ध भूगोलवेता डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन ने जलवायु का वर्गीकरण तापमान एवं वर्षा के आधार पर किया तथा राजस्थान की जलवायु को वनस्पति के आधार पर 1918 में चार भागों में विभाजित किया है, जो निम्न प्रकार है:- 
  • Aw जलवायु प्रदेश (उष्णकटिबंधीय आर्द्र जलवायु)
  • BShw जलवायु प्रदेश (अर्द्ध शुष्क या स्टेपी जलवायु)
  • BWhw जलवायु प्रदेश (उष्ण कटिबंधीय शुष्क मरुस्थलीय जलवायु)
  • Cwg जलवायु प्रदेश (उपोष्ण कटिबंधीय आर्द्र जलवायु)

Aw जलवायु प्रदेश (उष्णकटिबंधीय आर्द्र जलवायु) :-

  • Aw जलवायु प्रदेश में राजस्थान के डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़, प्रतापगढ़, बांसवाड़ा तथा उदयपुर का हिस्सा शामिल है।
  • Aw जलवायु प्रदेश का राजस्थान में प्रतिनिधित्व वाला जिला बांसवाड़ा है।
  • इस जलवायु का विस्तार दक्षिणी राजस्थान में है।
  • वर्षा - इस क्षेत्र में  वार्षिक वर्षा का औसत 80 से 100 सेंटीमीटर है।
  • शीतऋतु में तापमान - शीतऋतु में औसत तापमान 12℃-15℃ ।
  • ग्रीष्मऋतु में तापमान - ग्रीष्मऋतु में औसत तापमान  30℃-34℃।
  •  डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन के अनुसार राजस्थान का सबसे कम हिस्सा Aw जलवायु प्रदेश के अंतर्गत आता है।
  • वनस्पति - मानसूनी पतझड़ वन एवं सवाना प्रकार की घास के मैदान पाए जाते है।

BShw जलवायु प्रदेश (अर्द्ध शुष्क या स्टेपी जलवायु) :-

  • क्षेत्र - इसके अंतर्गत जालौर, नागौर, जोधपुर, बाड़मेर, सीकर, चूरू, झुंझुनू आदि जिले आते है। 
  • वर्षा - इस क्षेत्र में  वार्षिक वर्षा का औसत 20 से 40 सेंटीमीटर है।
  • शीतऋतु में तापमान - शीतऋतु में औसत तापमान 5℃-10℃ ।
  • ग्रीष्मऋतु में तापमान - ग्रीष्मऋतु में औसत तापमान  32℃-35℃।
  • वनस्पति - कांटेदार झाड़ियां एवं घास (स्टेपी प्रकार की वनस्पति) पायी जाती है।

BWhw जलवायु प्रदेश (उष्ण कटिबंधीय शुष्क मरुस्थलीय जलवायु) :-

  • क्षेत्र - इसके अंतर्गत पश्चिमी बाड़मेर, उत्तरी-पश्चिमी जोधपुर, पश्चिमी बीकानेर, जैसलमेर तथा गंगानगर आदि जिले आते है। 
  • वर्षा - इस क्षेत्र में  वार्षिक वर्षा का औसत 10 से 20 सेंटीमीटर है।
  • शीतऋतु में तापमान - शीतऋतु में औसत तापमान 12℃-18℃ ।
  • ग्रीष्मऋतु में तापमान - ग्रीष्मऋतु में औसत तापमान  35℃ से अधिक।
  • वनस्पति - यह प्रदेश वनस्पति रहित बालुका स्तूपों से ढंका हुआ होता है। यहां बहुत कम कंटीली झाडिया पायी जाती है।

Cwg जलवायु प्रदेश (उपोष्ण कटिबंधीय आर्द्र जलवायु) :-

  • क्षेत्र - इसके अंतर्गत राजस्थान में आरावली पर्वतमाला के पूर्वी एवं दक्षिणी-पूर्वी भाग के जिले जैसे अलवर, भरतपुर, जयपुर, सवाई माधोपुर, करौली, कोटा, दौसा आदि आते है। 
  • वर्षा - इस क्षेत्र में  वार्षिक वर्षा का औसत 60 से 80 सेंटीमीटर है।
  • शीतऋतु में तापमान - शीतऋतु में औसत तापमान 14℃-16℃ ।
  • ग्रीष्मऋतु में तापमान - ग्रीष्मऋतु में औसत तापमान  32℃-38℃ से अधिक।
  • वनस्पति - इस प्रदेश में चम्बल के बीहड़ पाए जाते है।

थार्नवेट का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण

थार्नवेट ने जलवायु वर्गीकरण वाष्पोत्सर्जन (या फिर तापमान, तापमान नहीं हो तो वनस्पति, तापमान एवं वनस्पति दोनों न हो तो जल का ऑप्शन सही होगा) के वितरण के आधार पर किया था। थार्नवेट ने राजस्थान की जलवायु को निम्न चार भागो में विभाजित किया है:- 
  • CA'w या उप आर्द्र (शुष्क एवं अर्द्ध शुष्क) जलवायु प्रदेश - इसके अंतर्गत डूंगरपुर, बांसवाड़ा, बारां, कोटा, झालावाड़ एवं दक्षिणी-पूर्वी उदयपुर आदि जिले आते है।
  • DA'w या उष्ण आर्द्र (अर्द्ध शुष्क) जलवायु प्रदेश - इसके अंतर्गत पाली, बूंदी, अजमेर, सिरोही, जालौर, चित्तौड़गढ़, जयपुर, भीलवाड़ा, टोंक, सवाई माधोपुर, करौली, दौसा, झुंझुनू, सीकर आदि जिले आते है। 
  • DB'w या अर्द्ध शुष्क (मिश्रित) जलवायु प्रदेश - इसके अंतर्गत गंगानगर, बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़ जिले आते है।
  • EA'd उष्ण शुष्क (मरुदभिद)जलवायु प्रदेश - इसके अंतर्गत जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर तथा बीकानेर का दक्षिणी-पूर्वी भाग आदि आते है।

ट्रिवार्था के अनुसार जलवायु वर्गीकरण

ट्रिवार्था ने कोपेन के जलवायु वर्गीकरण को आधार मानते हुए तापमान, आर्द्रता, वर्षा, उच्चावच एवं वनस्पतियों के आधार पर जलवायु वर्गीकरण किया। ट्रिवार्था ने राजस्थान की जलवायु को निम्न प्रकार से विभाजित किया है:- 
  • Aw (उष्ण कटिबंधीय आर्द्र) जलवायु प्रदेश - इस प्रकार की जलवायु दक्षिणी-पूर्वी राजस्थान के जिलों बांसवाड़ा, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़, कोटा, भीलवाड़ा, पूर्वी उदयपुर आदि में पायी जाती है।
  • Bsh (उष्ण व अर्द्ध उष्ण कटिबंधीय) जलवायु प्रदेश - इस प्रकार की जलवायु मध्यवर्ती पश्चिमी एवं उत्तरी राजस्थान के जिलों सिरोही, राजसमंद, जालौर, उदयपुर, बाड़मेर का दक्षिणी-पूर्वी भाग, अजमेर, पाली, नागौर, चूरू, जोधपुर, झुंझुनू, गंगानगर, सीकर, बीकानेर आदि में पायी जाती है।
  • Bwh (शुष्क मरुस्थलीय) जलवायु प्रदेश - इस प्रकार की जलवायु राजस्थान के पश्चिमी एवं उत्तरी-पश्चिमी जिलों गंगानगर, बीकानेर, जैसलमेर, उत्तरी-पश्चिमी बाड़मेर आदि में पायी जाती है।
  • Caw (अर्द्ध उष्ण आर्द्र) जलवायु प्रदेश - इस प्रकार की जलवायु राजस्थान के पूर्वी तथा दक्षिणी जिलों दौसा, भरतपुर, धौलपुर, कोटा, सवाई माधोपुर, अलवर, करौली आदि में पायी जाती है।
 यह भी पढ़ें:- 
आज की इस पोस्ट में डाॅ. ब्लादिमीर कोपेन का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण, थार्नवेट का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण, ट्रिवार्था का राजस्थान की जलवायु का वर्गीकरण के बारे में विस्तृत लेख लिखा गया है। इसमें आप सभी के हमेशा के सवाल कोपेन का जलवायु वर्गीकरण PDF, कोपेन का जलवायु वर्गीकरण राजस्थान Aw, राजस्थान में कोपेन का जलवायु वर्गीकरण, कोपेन का जलवायु वर्गीकरण इन हिंदी, थार्नवेट का जलवायु वर्गीकरण, ट्रिवार्था का जलवायु वर्गीकरण आदि से सम्बंधित महत्वपूर्ण तथ्य शामिल किये गए है।
Tags : Kopen ka jalvayu vargikaran rajasthan, rajasthan ki jalvayu ka vargikaran, kopen ke anusar rajasthan ki jalvayu, purvi rajasthan ki jalvayu kaisi hai, tharnvet ka rajasthan ki jalvayu vrgikarn, trivartha ka jalvayu vrgikarn.


हमसे जुड़े

Educational Facebook Group

Join

PDF/Educational Telegram Group

Join

Educational Facebook Page

Join