राजस्थान जिला दर्शन : 'जालौर जिला दर्शन'

महर्षि जाबालि की तपोभूमि जालौर को प्राचीन काल से अनेक नामों से पुकारा जाता रहा हैं। जालौर के प्रसिद्ध उपनाम -सुवर्ण नगरी, ग्रेनाइट सिटी, जाबालीपुर व जालहुर है। बिजोलिया शिलालेख के अनुसार सुवर्णगिरी पहाड़ी के पूर्वी भाग में स्थित महर्षि जाबालि की तपोभूमि/कर्मभूमि होने के कारण जालौर को प्राचीन काल में जाबालीपुर के नाम से जाना जाता था। वर्तमान में यहां पर ग्रेनाइट बहुतायत मात्रा में मिलने के कारण इसे ग्रेनाइट सिटी भी कहा जाने लगा। प्रतिहार नरेश नागभट्ट प्रथम ने जालौर को अपनी राजधानी बनाया था तथा इन्हीं के पुत्र ने जालौर के दुर्ग का निर्माण करवाया था। प्रतिहारों के शासन के बाद जालौर पर परमारों का अधिकार हो गया था। इस दुर्ग का जीर्णोद्धार परमार शासकों ने करवाया था। नाडोल के शासक अल्हण के पुत्र कीर्तिपाल चौहान ने परमारों को हराकर जालौर में 1181 ईसवी में चौहान वंश की स्थापना की। जालौर के चौहानों को सोनगरा चौहान कहा जाने लगा। महाकवि माघ की जन्मभूमि भीनमाल भी जालौर जिले में स्थित है। 
Jalore Jila Darshan


    जालौर के उपनाम/प्राचीन नाम 

    • ग्रेनाइट सिटी 
    • जलालाबाद 
    • जाबालीपुर (महर्षि जाबालि की तपोभूमि) 
    • सुवर्ण नगरी 

    जालौर का सामान्य परिचय 

    • जालौर का क्षेत्रफल : 10640 वर्ग किलोमीटर 
    • जालौर में तहसीलों की संख्या : 7 
    • जालौर में उपखंड ओं की संख्या : 5 

    जालौर जिले की मानचित्र में स्थिति एवं विस्तार 

    • अक्षांशीय स्थिति : 24 डिग्री 37 मिनट उत्तरी अक्षांश से 25 डिग्री 49 मिनट उत्तरी अक्षांश तक। 
    • देशांतरीय स्थिति : 71 डिग्री 11 मिनट पूर्वी देशांतर से 73 डिग्री 5 मिनट पूर्वी देशांतर तक। 

    जालौर जिले के विधानसभा क्षेत्र 

    जालौर जिले में कुल 5 विधानसभा क्षेत्र हैं जिनके नाम निम्न है :- 
    • जालौर 
    • आहोर 
    • सांचौर 
    • भीनमाल 
    • रानीवाड़ा 

    2011 की जनगणना के अनुसार जालौर जिले की जनसंख्या / घनत्व / लिंगानुपात / साक्षरता के आंकड़े 

    • जालौर की कुल जनसंख्या : 18,28,730 
    • जालौर का लिंगानुपात : 952 
    • जालौर में जनसंख्या घनत्व : 172 
    • जालौर की साक्षरता दर : 54.9% 
    • जालौर की पुरुष साक्षरता दर : 70.7 प्रतिशत 
    • जालौर में महिला साक्षरता दर : 38.5% (न्यूनतम) 

    जालौर जिले के प्रमुख मेले और त्यौहार


    ✍ सेवड़िया पशु मेला ➡️ 
    यह पशु मेला जालौर के रानीवाड़ा क्षेत्र में रानीवाड़ा रेलवे स्टेशन से लगभग 1 किलोमीटर की दूरी पर आयोजित होता है। यह मेला चेत्र सुदी एकादशी से प्रारंभ होकर चैत्र पूर्णिमा तक चलता है। इसमें कांकरेज नस्ल के बैल तथा मुर्रा नस्ल की भैंसों का क्रय-विक्रय होता है। 

    ✍ बाबा रघुनाथपुरी पशु मेला ➡️ 
    यह मेला भी सेवड़िया पशु मेले के समय सांचौर में आयोजित होता है। इस मेले में भी पशुओं के क्रय-विक्रय के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम, आकर्षक प्रदर्शनी तथा फिल्म प्रदर्शन का भी आयोजन किया जाता है।

    जालौर के प्रमुख मंदिर | जालौर के शीर्ष मंदिर 


    ✍ मां आशापुरा का मंदिर ➡️
    आशापुरा माता को महोदरी माता के उपनाम से भी जाना जाता है। आशापुरा माता को जालौर के सोनगरा चौहानों की कुलदेवी भी कहा जाता है। आशापुरा माता का यह मंदिर मोदरा रेलवे स्टेशन के निकट स्थित है। जहां पर नवरात्रा में विशाल मेले का आयोजन होता है। इस मंदिर में स्थापित मूर्ति लगभग 1000 वर्ष पुरानी है। 

    ✍ सुंधा माता का मंदिर ➡️
    सुंधा माता का मंदिर दांत लावास जालौर में स्थित है सुंधा माता के इस मंदिर में चामुंडा माता की प्रतिमा विराजमान है इस मंदिर में राजस्थान का प्रथम रोपवे दिसंबर 2006 में लगा था राजस्थान का पहला बालू अभ्यारण्य जसवंतपुरा क्षेत्र में सुंधा माता मंदिर के निकट ही जालौर में स्थित है

    ✍ सिरे मंदिर ➡️
    जालौर में कन्यागिरी पर यह स्थान योगीराज जालंधरनाथ जी की तपोभूमि है। जिसके नाम पर जालौर का नाम जालंधर पड़ा था। इनके इस मंदिर का निर्माण जोधपुर के राजा मानसिंह ने करवाया था। 

    ✍आपेश्वर महादेव मंदिर ➡️
    जालौर में रामसीन नामक स्थान पर स्थित है। आपेश्वर महादेव गुर्जर-प्रतिहार कालीन है। इस मंदिर के पुजारी कश्यप गोत्रीय रावल ब्राह्मण है। इस मंदिर का प्राचीन नाम अपराजितेश्वर शिव मंदिर था। यहां पर राजस्थान का पहला श्वेत स्फटिक (कांच से निर्मित) शिवलिंग है। 

    ✍ फता जी का मंदिर ➡️
    जालौर के सांथू में फत्ताजी ने अपने गांव की मान मर्यादा हेतु प्राणों को न्यौछावर किया था। जिस कारण वहां पर भाद्रपद शुक्ल नवमी को फता जी का मेला लगता है। 

    ✍मलिक शाह पीर की दरगाह ➡️
    यह दरगाह जालौर में स्थित है। इस दरगाह में भरने वाला उर्स धार्मिक एकता एवं हिंदू मुस्लिम समन्वय का प्रतीक है। 

    यह भी पढ़ें :- 

    जालौर जिले के दर्शनीय स्थल/पर्यटन स्थल


    ✍ जालौर दुर्ग ➡️ 
    जालौर दुर्ग के उपनाम- सुवर्णगिरी दुर्ग, कांचनगिरी दुर्ग, जालंधर दुर्ग, सोनगिरी दुर्ग, जलालाबाद दुर्ग, सोनारगढ़ दुर्ग, जाबालीपुर आदि। जालौर में सुकड़ी नदी के निकट सुवर्णगिरि पहाड़ी पर बना यह दुर्ग पश्चिमी राजस्थान का सबसे प्राचीन व सबसे सुदृढ़ दुर्ग है। इस दुर्ग में चामुंडा माता, जोगमाया माता का मंदिर स्थित है। इनके साथ-साथ इस किले में अलाउद्दीन खिलजी एवं मलिक साहब की दरगाह/मस्जिद, परमार कालीन कीर्ति स्तम्भ स्थित है। इस दुर्ग के बारे में हसन निजामी ने कहा है, कि यह एक ऐसा किला है, जिसका दरवाजा कोई भी आक्रमणकारी खोल नहीं सका। औझा के अनुसार इस दुर्ग का निर्माण परमारों ने करवाया था। दशरथ शर्मा के अनुसार इस दुर्ग का निर्माण प्रतिहार शासक नागभट्ट प्रथम ने सुकड़ी नदी के किनारे करवाया था। 
    जालोर दुर्ग का साका/जालोर का युद्ध - 
    सन 1311 ईसवी में अलाउद्दीन खिलजी ने जालौर दुर्ग पर आक्रमण किया था। उस समय वहां का शासक का कान्हड़देव था। अलाउद्दीन खिलजी हर तरीके से दुर्ग को फतह करने में नाकाम रहा था। फिर उन्होंने कान्हड़देव के सेनापति दहिया बिका को लालच देकर गुप्त रास्तों का पता कर जालौर दुर्ग पर आक्रमण किया। जिसमें कान्हड़देव वीरगति को प्राप्त हुए थे तथा उनके पुत्र वीरमदेव ने अपनी कुलदेवी आशापुरा माता के सामने कटार घोंप कर आत्महत्या कर दी थी। इस प्रकार इन वीरों ने केसरिया किया था तथा कान्हड़देव की रानी जैतल दे जोहर किया था। इसके बाद अलाउद्दीन खिलजी ने जालौर का नाम बदलकर जलालाबाद रखा था। 

    ✍ भीनमाल का वराह श्याम का मंदिर ➡️ 
    इस मंदिर में भगवान श्याम की चतुर्भुज मूर्तियां पुरातात्विक महत्व रखती हैं। यह मंदिर भारत के अतिप्राचीन गिने-चुने वराह मंदिरों में से एक हैं।

    जालौर के अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न/तथ्य | Jalore GK in Hindi 

    • राजस्थान का वह जिला जिसकी आकृति व्हेल मछली के समान है - जालोर जिला। 
    • राजस्थान का पहला गौ-मूत्र बैंक - सांचोर (जालोर) में है। 
    • राजस्थान का प्रथम रोप-वे सुंधा माता के मंदिर (जालोर) में हैं। 
    • राष्ट्रीय कामधेनु विश्वविद्यालय - पथमेड़ा (सांचोर, जालोर) में है। 
    • देश व राजस्थान का पहला एचआईवी (एड्स) रोगियों का स्वयं का अस्पताल जालोर में है। 
    • राजस्थान का औद्योयोगिक दृष्टि से सबसे पिछड़ा जिला - जालोर जिला। 
    • राजस्थान का न्यूनतम महिला साक्षरता वाला जिला - जालोर जिला। 
    • सांचोर के उपनाम - नेहड़, सत्यपुर, राजस्थान का पंजाब (पांच नदियों के कारण ) 
    • सांगी नदी - सांगी नदी राजस्थान के जालोर जिले की जसवंतपुरा पहाड़ी से निकलती हुई जालोर में ही लूणी नदी में मिल जाती है। 
    • राजस्थान में ईसबगोल (घोड़ा जीरा) मंडी - भीनमाल (जालोर) में है। 
    • जालोर जिला ईसबगोल एवं टमाटर की खेती के लिए प्रसिद्ध है। 
    • फ्लोरस्पार/फ्लोराइट खनिज - कीटनाशक दवाई बनाने में, सिरेमिक उद्योग में एवं हाइड्रोक्लोरिक अम्ल बनाने में उपयोग आने वाला फ्लोराइट के जालोर में उत्पादक क्षेत्र - करारा एवं भीनमाल हैं। 
    • गुलाबी रंग का संगमरमर एवं ग्रेनाइट जालोर में मिलता है। 
    • जालोर में प्रमुख मस्जिद / दरगाह / मकबरे - हजरत मख्दुन पीर की दरगाह (पीर की जाल), अलाउद्दीन खिलजी की मस्जिद, अब्बनशाह अल्लेहिर्रहमा की दरगाह (सांचोर), मलिक शाह पीर की दरगाह (जालोर दुर्ग में ) आदि।  
    • ढोल नृत्य - यह नृत्य पुरुषों द्वारा जालोर में किया जाता है। इस नृत्य को प्रकाश में लाने का श्रेय जयनारायण व्यास को जाता है। 
    • लुम्बर नृत्य - यह नृत्य होली के अवसर पर जालोर में किया जाता है। 
    • राजस्थान में जीरे का सर्वाधिक उत्पादक जिला - जालोर जिला है। 
    • नर्मदा नहर परियोजना से राजस्थान में पानी 27 मार्च, 2008 को राजस्थान के जालोर जिले के सीलू गांव में आया था। नर्मदा नहर राजस्थान में सीलू गांव से प्रवेश करती है। 

    आज के इस पोस्ट में हमने "राजस्थान के जिला दर्शन" की श्रृंखला में "जालौर जिला दर्शन" को पूरी तरह से कवर करने की पूरी कोशिश की हैं। इसमें जालौर का सामान्य परिचय, जालौर के उपनाम, 2011 की जनगणना के अनुसार जालौर जिले की जनसँख्या/साक्षरता/घनत्व/लिंगानुपात, जालौर का क्षेत्रफल, जालौर की मानचित्र में स्थिति, जालौर में विधानसभा क्षेत्र, जालौर के मेले, जालौर के प्रमुख मंदिर, जालौर के पर्यटन स्थल एवं इसके अलावा जितने भी अन्य महत्वपूर्ण प्रश्न बन सकते थे, उन सभी को शामिल कर पेश किया गया है। मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी पाठकों को मेरी यह पोस्ट पसंद आयी होगी। आप सभी को यह पोस्ट कैसी लगी आप मुझे कमेंट करके जरूर बताएं।

    Tags : Jalore District GK in Hindi, Jalore GK in Hindi, Jalore Jila Darshan, Jalor District GK in Hindi, Jalore, Rajasthan GK in Hindi, Rajasthan GK, RPSC GK in Hindi, Rajasthan GK tricks in Hindi, Rajasthan Police GK in Hindi, Rajasthan Gk Tricks Video in Hindi, Rajasthan GK video in Hindi, jalore news, jalor district, rajasthan gk questions with answer in Hindi, Rajasthan gk questions with answers in Hindi, Rajasthan gk video in Hindi by subhash charan, jalore rajasthan, jalore kila, jalore ke chauhan, jalore video, 33 Districts in Rajasthan, Jalore Pin Code, Jalore to Jaipur, Jalore ke Upnam.


    हमसे जुड़े

    Educational Facebook Group

    Join

    PDF/Educational Telegram Group

    Join

    Educational Facebook Page

    Join