चम्बल नदी : चम्बल नदी का उद्गम स्थल मध्यप्रदेश के इंदौर जिले के महू के निकट जानापाव पहाड़ी है। चंबल नदी एकमात्र ऐसी नदी है जो अंतर्राज्यीय सीमा बनाती है। यह सीमा राजस्थान तथा मध्य प्रदेश राज्य के बीच की है। चम्बल नदी विश्व की एकमात्र ऐसी नदी है, जिसके 100 किलोमीटर के दायरे में तीन बांध {चम्बल नदी पर बने 3 बांधों का क्रम याद रखने की ट्रिक आप यहां से पढ़ें} बनाए गए हैं और उन तीनों पर जल विद्युत का उत्पादन किया जाता है। राजस्थान में सर्वाधिक अवनालिका अपरदन चंबल नदी द्वारा होता है। चंबल बेसिन राजस्थान में उत्खात स्थलाकृति के लिए प्रसिद्ध है। इस नदी की प्रवाह प्रणाली वृक्षाकार होती है। इसका बहाव दक्षिण से उत्तर की ओर है। यह नदी राज्य की बहाव क्षेत्र की दृष्टि से सबसे लंबी नदी है। इसकी कुल लंबाई 1051 किलोमीटर है। 
Chambal Ki Sahayak nadiya, rajasthan ki nadiya, chambal river, chambal river gk, chambal ki sahayak nadiya trick, chambal nadi ki sahayak nadi trick, chambal nadi gk trick, chambal ki sahayak nadiya, chambl nadi in hindi chambl nadi ki shayk nadiya, chambal nadi, chambal ki sahayak nadiya
Chambal Nadi GK Tricks
चंबल नदी के प्रमुख उपनाम : चंबल नदी को कई उपनामों से जाना जाता है। जिनमें से प्रमुख उपनाम निम्न प्रकार है :-
  • बारहमासी नदी 
  • नित्यवाही नदी 
  • चर्मण्वती नदी 
  • राजस्थान की कामधेनु आदि। 

चंबल नदी की प्रमुख सहायक नदियां

राजस्थान की कामधेनु कही जाने वाली चंबल नदी के राजस्थान राज्य में बहाव क्षेत्र की दृष्टि से सबसे लंबी नदी होने के पीछे उनकी सहायक नदियों का भी एक अहम योगदान है। इन नदियों के बिना चंबल नदी को यह उपाधि मिलना मुश्किल है।  चंबल नदी की प्रमुख सहायक नदियां जिनके नाम - मेज नदी, कालीसिंध नदी, बनास नदी, पार्वती नदी, बामणी/ब्राह्मणी नदी, आहु आदि। इन सभी नदियों को सीधे तौर पर याद रखना काफी मुश्किल होता है। इसके लिए आपको एक शानदार ट्रिक नीचे प्रदान की गई है, जिसके माध्यम से आप चंबल नदी की प्रमुख सहायक नदियों को आसानी से याद कर सकते हो। उसके बाद में आप इन नदियों को कभी भूल नहीं सकते यानी कि आप भूलना भूल जाओगे। तो यह रही आपके लिए चंबल की प्रमुख सहायक नदियों की शानदार ट्रिक :-
>>Chambal Ki Sahayak Nadi Trick : " चम्बल में पाका कुबाब तथा आलु आपको मिलता है "

ट्रिक (Code) 
  नदी का नाम 
 चम्बल 
---------- 
 में 
मेज नदी 
 पा 
पार्वती  नदी 
 का 
 कालीसिंध नदी 
 कु 
कुराल नदी 
 बा 
  बामनी/ब्राह्मणी नदी 
 ब 
 बनास 
 तथा 
 ----------
 आलु 
 आलुनिया 
 आ 
 आहु नदी 
 प 
 परवन नदी 
 को मिलता है 
 ---------

एक अन्य Chambal Ki Sahayak Nadiya/चम्बल नदी की सहायक नदियां को याद रखने की शार्ट ट्रिक आप पाठकों को नीचे प्रदान करवाई जा रही है। आप सभी अपनी सुविधा के अनुसार जो ट्रिक पसंद करते हो और आपको आसानी से याद रहती हो उसको याद रखें। तो यह रही अपनी दूसरी ट्रिक :-
>> Chambal Ki Sahayak Nadiya Trick : " आप आलु को पानी में बना ता दो "

 ट्रिक (Code) 
  नदी का नाम  
आ  
आहु नदी 
 प 
परवन नदी 
 आलु 
आलुनिया 
 को 
---------
 पा 
पार्वती नदी 
 नि 
निजाम 
 में 
मेज नदी 
 बना 
बनास नदी 
 क 
कालीसिंध नदी 
 बता  
बामनी/ब्राह्मणी 
दो 
--------

➡️बारहमासी नदियां, अरावली पर्वतमाला से निकलने वाली नदियां तथा बिना नदियां वाले जिलों को याद रखने की ट्रिक यहां से पढ़ें 

चम्बल नदी पर राजस्थान में बने बांध 

चर्मण्वती नदी के उपनाम से प्रसिद्ध राजस्थान की चम्बल नदी पर 100 किलो मीटर के दायरे में 3 बांध बने हुए है। इसके साथ ही राजस्थान में चम्बल नदी पर प्रमुख रूप से चार बांध बने हुए है। जिनको याद रखने की एक शानदार शार्ट ट्रिक आप सभी पाठकों के लिए SarkariResult247 एक शानदार ट्रिक लेकर आया है। इस ट्रिक को एक बार याद करने के बाद आप इस प्रश्न को कभी नहीं भूलोगे। आप  सभी के लिए यह प्रश्न लाइफटाइम याद हो जायेगा। यह रही शानदार ट्रिक :-
>> Chambal Ndi pr Bandh Short Trick : "गाँधी कोटा में जवाहर राणा से मिले"

ट्रिक  (Code)
बांध का नाम  
 गाँधी 
गाँधी सागर बाँध  
 कोटा 
 कोटा बैराज बाँध 
 में 
 ----------
 जवाहर 
 जवाहर सागर बाँध 
 राणा 
 राणा प्रताप सागर बाँध 
 से मिले 
 ----------


यह भी पढ़ें :-

Tags : Chambal Ki Sahayak nadiya, rajasthan ki nadiya, chambal river, chambal river gk, chambal ki sahayak nadiya trick, chambal nadi ki sahayak nadi trick, chambal nadi gk trick, chambal ki sahayak nadiya, chambl nadi in hindi chambl nadi ki shayk nadiya, chambal nadi, chambal ki sahayak nadiya, chambal nadi ka rahasya, chambal kiski sahayak nadi hai, chambal nadi kahan se nikali hai, chambal nadi pr bandh evm sichai priyojna.


हमसे जुड़े

Educational Facebook Group

Join

PDF/Educational Telegram Group

Join

Educational Facebook Page

Join