यह भूखंड विश्व के प्राचीनतम मध्यजीवी महाकल्प के पेंजिया भूखंड का अवशिष्ठ भाग है। इस पेंजिया के चारों और पानी को "पेंथालासा" कहा जाता था। इस पेंजिया का विखंडन कार्बोनिफरस युग में हुआ था जिसके फलस्वरूप यह दो भाग- "अंगारालैंड एवं गोंडवानालैंड" में विभक्त हो गया । इन दोनों भूखंडों के मध्य टेथिस सागर था। राजस्थान में खारे पानी की झीले जैसे कि सांभर, डीडवाना, पचपदरा, लूणकरणसर इत्यादि टेथिस सागर के अवशेष है। तथा अरावली पर्वतमाला भाग गोंडवाना लैंड का अवशेष है।


राजस्थान की सामान्य स्थिति एवं विस्तार

राजस्थान राज्य क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है( 1 नवंबर 2000 को मध्यप्रदेश से छत्तीसगढ़ अलग होने के बाद)। राजस्थान का कुल भौगोलिक क्षेत्रफल 342239 वर्ग किलोमीटर है। वर्ग मील में बात करें तो राजस्थान का भौगोलिक क्षेत्रफल 132140 वर्ग मील है। अतः राजस्थान का यह भौगोलिक क्षेत्रफल भारत की कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 10.41 प्रतिशत है अर्थात भारत के कुल क्षेत्रफल का 1/10 वां भाग राजस्थान में विस्तारित है। राजस्थान के आकार की बात करें तो राजस्थान का आकार - "पतंगाकार / विषम कोणीय चतुर्भुजाकार/ रोंहम्बस" है। सर्वप्रथम प्रोफेसर टी. एच. हैण्डले ने राजस्थान के आकार को विषम कोणीय चतुर्भुजाकार बताया । राजस्थान की उत्तर से दक्षिण की कुल लंबाई 826 किलोमीटर है तथा पूर्व से पश्चिम की कुल लंबाई 869 किलोमीटर है। अतः राजस्थान राज्य की उत्तर - दक्षिण लंबाई एवं पूर्व - पश्चिम चौड़ाई का अंतर 43 किलोमीटर है।

राजस्थान की मानचित्र में स्थिति

  • राजस्थान की स्थिति भारत के मानचित्र अनुसार भारत के उत्तर-पश्चिम भाग में है।
  • राजस्थान की स्थिति विश्व मानचित्र के अनुसार उत्तर-पूर्व भाग में है।
  • एशिया मानचित्र के अनुसार राजस्थान की स्थिति दक्षिण - पश्चिम भाग में है।

राजस्थान का अक्षांशीय एवं देशांतरीय विस्तार

  • राजस्थान का अक्षांशीय विस्तार 23 डिग्री 3 मिनट उत्तरी अक्षांश से 30 डिग्री 12 मिनट उत्तरी अक्षांश के मध्य है।
  • राजस्थान राज्य का देशांतरीय विस्तार 69 डिग्री 30 मिनट पूर्वी देशांतर से 78 डिग्री 17 मिनट पूर्वी देशांतर के मध्य स्थित है।
  • राजस्थान के दोनों अक्षांशों के मध्य अंतर 7 डिग्री 9 मिनट है।
  • राजस्थान के दोनों देशांतरो के मध्य अंतर 8 डिग्री 47 मिनट अर्थात लगभग 9 डिग्री का है।
  • ज्ञात रहे कि 1 डिग्री देशांतर को पार करने में सूर्य को 4 मिनट का समय लगता है।
  • इसलिए पूर्व से पश्चिम में सूर्य उदय होने में 35 minute 8 second लगभग 36 मिनट (9x4) का अंतर होता है।

राजस्थान में सूर्योदय और सूर्यास्त की स्थिति

वैज्ञानिक मतों के अनुसार सूर्य पूर्व दिशा में उदय होता हुआ माना जाता है। चूँकि पूर्व से पश्चिम में सूर्य उदय होने में लगभग 36 मिनट का समय लगता है इसलिए राजस्थान में सबसे पहले सूर्योदय धौलपुर जिले की राजाखेड़ा तहसील के सिलाना गांव में होता हुआ दिखाई देता है और सूर्यास्त भी सबसे पहले धौलपुर में ही दिखाई देता है। सूर्योदय सबसे बाद में जैसलमेर जिले में होता है और सूर्यास्त भी सबसे बाद में जैसलमेर जिले में होता है।

राजस्थान में कर्क रेखा की स्थिति एवं प्रश्नोत्तर

कर्क रेखा राजस्थान के दक्षिण से होकर गुजरती है। कर्क रेखा राजस्थान राज्य के डूंगरपुर जिले की दक्षिणी सीमा को छूती हुई बांसवाड़ा के लगभग मध्य से होकर गुजरती है अर्थात कर्क रेखा राजस्थान राज्य के 2 जिलों यथा डूंगरपुर एवं बांसवाड़ा से होकर गुजरती है। कर्क रेखा के सबसे निकट स्थित शहर बांसवाड़ा है जबकि सबसे दूर स्थित शहर श्रीगंगानगर है। सूर्य की किरणें भूमध्य रेखा पर सबसे सीधी पड़ती है जैसे-जैसे उत्तर की ओर बढ़ते जाएंगे वैसे-वैसे सूर्य की किरणें तिरछी पड़ने लगती है। इसी प्रकार राजस्थान में भी बांसवाड़ा जिले पर सूर्य की सर्वाधिक सीधी किरणें पड़ती है। तथा श्रीगंगानगर जिले पर सूर्य की सर्वाधिक तिरछी किरणें पड़ती है।

राजस्थान जीके मोस्ट इम्पोर्टेन्ट प्रश्नोत्तर

राजस्थान की उत्तरी सीमा पर कोणा गांव (गंगानगर तहसील - गंगानगर ), दक्षिणी सीमा पर बोरकुण्ड गांव (कुशलगढ़ तहसील - बांसवाड़ा ), पूर्वी सीमा पर सिलाना गांव (राजाखेड़ा तहसील - धौलपुर ) तथा पश्चिमी सीमा पर कटरा गांव (सम तहसील - जैसलमेर ) है।
       आज की इस पोस्ट में इतना ही। यह राजस्थान सामान्य ज्ञान के टॉपिक राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के सभी महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर को शामिल कर लिखा गया है आप सभी मित्रो से अनुरोध है की यदि आपको ही राजस्थान सामान्य ज्ञान की पोस्ट अच्छी लगी हो तो आप मुझे कमेंट करके जरूर अवगत करावे साथ ही आप आगे भी जिस टॉपिक पर कंटेंट पढ़ना चाहते है अथवा आपको किसी इम्पोर्टेन्ट टॉपिक पर महत्वपूर्ण प्रीवियस इयर्स के प्रश्नोत्तर चाहिए तो आप कमेंट करके जरूर बताये। आप सभी दोस्तों को पूरा पोस्ट पढ़ने के लिए धन्यवाद ! यदि आप सभी दोस्तों को पोस्ट हेल्पफुल लगे तो आप अपने मित्रो के साथ शेयर भी करे ताकि आप जैसे अन्य किसी जरूरतमंद को भी हेल्प हो सके।


हमसे जुड़े

Educational Facebook Group

Join

PDF/Educational Telegram Group

Join

Educational Facebook Page

Join