आनुवंशिकी (Genetics)-जीव विज्ञान की वह शाखा जिसमें लक्षणों की वंशागति तथा विभिन्नताओं का अध्ययन किया जाता है।
आनुवंशिक लक्षण (Hereditary Characters)- सजीवों के वह लक्षण जिनका पीढ़ी दर पीढ़ी संचरण होता रहता है।
वंशागति (Heredity)-लक्षणों का पीढ़ी दर पीढ़ी संचरण।
विभिन्नताएँ (Variations)-जीवों के मध्य पाये जाने वाले अन्तर जो प्रमुखतः लैंगिक जनन के फलस्वरूप उत्पन्न होते हैं।
संकरण (Hybridization)-नर व मादा के बीच हुआ लैंगिक जनन।
द्विलिंगी पुष्प (Bisexual Flower)-वह पुष्प जिसमें नर व मादा (पुमंग व जायांग) दोनों प्रकार के लैंगिक अंग उपस्थित होते हैं।

शुद्ध वंशक्रम (Pureline)-वह जनक जो समान जनक से संकरण पर हमेशा अपने समान ही संतति उत्पन्न करे।
विपुंसन (Emasculation)-द्विलिंगी पुष्प की कलिका अवस्था में (पराग कणों के परिपक्व होने से पहले ही) ही पुमंग (stamens) को अलग कर पुष्प को एक छोटी-सी थैली में बन्द कर देना।
जीन (Gene)-आनुवंशिक पदार्थ डी०एन०ए० का वह खण्ड जो एक लक्षण को नियंत्रित करता है (मेण्डल ने इसे कारक कहा)।
युग्म विकल्पी (Alleles or Allelomorph)-किसी जीन के दो विपर्यासी स्वरूपों (alternate forms) को एलील या युग्म विकल्पी कहते हैं।
समयुग्मजी (Homozygous)-जब किसी कोशिका या जीव में एक जीन के दोनों युग्म विकल्पी एक समान हों।
विषमयुग्मजी (Heterozygous)-जब कोशिका या जीव में एक जीन के दोनों युग्म विकल्पी अलग-अलग प्रकार के हों।
लक्षण प्ररूप (Phenotype)-किसी सजीव की बाह्य प्रतीति (external appearance) अर्थात् उसके बाह्य रूप से देखे जा सकने वाले लक्षण।

जीन प्ररूप (Genotype)-किसी सजीव का आनुवंशिकीय संघटन (genetic constitution)।
प्रभावी लक्षण (Dominant characters)-वह लक्षण जो F, पीढ़ी में अपने आपको अभिव्यक्त कर पाता है।
अप्रभावी लक्षण (Recessive character)-वह लक्षण जो F, पीढ़ी में अपने आपको अभिव्यक्त नहीं कर पाता अर्थात् छिपा रहता है।
एक संकर क्रॉस (Monohybrid cross)-ऐसा संकरण (क्रॉस) जिसमें केवल एक लक्षण की वंशागति का अध्ययन किया जाता है।
द्विसंकर क्रॉस (Dihybrid cross)-वह क्रॉस जिसमें एक साथ दो लक्षणों की वंशागति का अध्ययन किया जाता है।
बहुसंकर क्रॉस (Polyhybrid cross)-वह क्रॉस जिसमें अनेक लक्षणों की वंशागति का एक साथ अध्ययन किया जाता है।
परीक्षण संकरण (Test cross)-वह क्रॉस जिसमें अज्ञात जीनोटाइप वाली F, पीढ़ी का अप्रभावी लक्षण प्ररूप वाले जनक से संकरण किया जाता है।
संकरपूर्वज संकरण (Back cross)-वह क्रॉस जिसमें F, पीढ़ी के जीवों का संकरण किसी भी एक जनक से किया जाता है।

जनक पीढ़ी (Parental generation)—वह पौधे या जीव जिनको F, संतति प्राप्त करने के लिए संकरित कराया जाता है।
F1 पीढ़ी (First filial generation)-जनकों के संकरण से प्राप्त पीढ़ी F, पीढ़ी कहलाती है।
F2 पीढ़ी (Second filial generation)-F1 पीढ़ी के संकरण से प्राप्त पीढ़ी।
एकसंकर अनुपात (Monohybrid ratio)-एक संकरण से प्राप्त लक्षण प्ररूप अनुपात को एक संकर अनुपात कहते है।
द्विसंकर अनुपात (Dihybrid ratio)-द्विसंकर संकरण से प्राप्त लक्षण प्ररूप अनुपात को द्विसंकर अनुपात कहते हैं।
सुजननिकी (Eugenics)-विज्ञान की वह शाखा जिसमें मानव जाति के आनुवंशिक सुधार का अध्ययन किया जाता है।

Read Complete Rajasthan GK

1000 रसायन विज्ञान एक पंक्ति प्रश्नोत्तर PDF
1000+ जीव विज्ञान एक पंक्ति प्रश्नोत्तर PDF


हमसे जुड़े

Educational Facebook Group

Join

PDF/Educational Telegram Group

Join

Educational Facebook Page

Join