राजस्थान जिला दर्शन : 'बाड़मेर जिला दर्शन'

barmer district gk in hindi, barmer gk, rajasthan gk
Barmer GK : 'Barmer Jila Darshan'
"बाढ़ाणा/मालाणी" उपनाम से प्रसिद्ध तेल एवं प्राकृतिक गैस खनिज संपदा के धनी बाड़मेर जिले को 1246 ईसवी में बरहड़देव ने बसाया था।



    बाड़मेर जिले के उपनाम | बाड़मेर के प्राचीन नाम


    • बाढ़ाणा  
    • मालाणी 
    • श्रीमाल 
    • किरात कूप 
    • शिव कूप 
    • बाहड़मेढ़  
    • कला व हस्तशिल्प का सिरमौर

    बाड़मेर का सामान्य परिचय | Barmer Ki Jankari Hindi Me


    • बाड़मेर का क्षेत्रफल : 28387 वर्ग किलोमीटर। 
    • बाड़मेर का ग्रामीण क्षेत्रफल : 28341.99 वर्ग किलोमीटर। 
    • बाड़मेर का नगरीय  क्षेत्रफल - 45.01 वर्ग किलोमीटर। 
    • बाड़मेर में उपखंडों की संख्या - 04  
    • बाड़मेर में ग्राम पंचायतों की संख्या - 384 
    • बाड़मेर में तहसीलों की संख्या - 8 
    • बाड़मेर में उप तहसीलों की संख्या - 5 
    • बाड़मेर में कुल वन क्षेत्रफल : 592.28 वर्ग किलोमीटर। 

    बाड़मेर जिले की मानचित्र के अनुसार स्थिति | Barmer Ki Sthiti Evm Vistar


    🔰अक्षांशीय स्थिति : 24 डिग्री 4 मिनट उत्तरी अक्षांश 26 डिग्री 32 मिनट उत्तरी अक्षांश तक। 

    🔰देशांतरीय स्थिति : 70 डिग्री 5 मिनट पूर्वी देशांतर से 72 डिग्री 52 मिनट पूर्वी देशांतर तक। 

    बाड़मेर जिले के विधानसभा क्षेत्र | Barmer Me Vidhansabha क्षेत्र 

    • शिव 
    • बाड़मेर 
    • बायतु 
    • गुडामालानी 
    • पचपदरा 
    • चौहटन 
    • सिवाना 

    2011 की जनगणना के अनुसार बाड़मेर जिले की जनसंख्या/घनत्व/लिंगानुपात/साक्षरता के आंकड़े

    • बाड़मेर की कुल जनसंख्या : 26,03,751 
    • बाड़मेर का लिंगानुपात - 902 
    • बाड़मेर की साक्षरता दर - 56.5% 
    • बाड़मेर में पुरुष साक्षरता दर 70.9% 
    • बाड़मेर में महिला साक्षरता दर - 40.6% 
    • बाड़मेर में पशु घनत्व - 189 

    बाड़मेर के प्रमुख मेले एवं त्यौहार | Barmer Ke Prmukh Mele


     मेला 
    स्थान  
    दिन  
     सावन का मेला 
    सिवाना  
    श्रावण कृष्णा 2-3  
     रणछोड़राय का मेला 
    खेड़  
    प्रतिवर्ष राधाष्टमी, माघ पूर्णिमा, बैशाख एवं श्रावण मास की पूर्णिमा व कार्तिक पूर्णिमा भादवा सुदी 14  
    मल्लीनाथ पशु मेला  
    तिलवाड़ा  
    चैत्र कृष्णा 11 से शुक्ला 11 तक  
     आलमजी का मेला 
    धोरीमन्ना  
    भादवा सुदी 2  
     हल्देश्वर महादेव शिवरात्रि मेला 
    पीपलूद ( छप्पन की पहाड़ियों के बीच यह मारवाड़ का लघु माउन्ट आबू है। ) 
    शिवरात्रि  
      सुइयों का मेला 
    चौहटन  
    अर्द्धकुम्भ के नाम से प्रसिद्ध यह मेला हर चार वर्ष में पौष माह की अमावस्या को भरता है।  
     जोगमाया का मेला 
    चालकना  
    भादवा सुदी 14  
     रानी भटियाणी  का मेला  
    जसोल 
    कार्तिक वदी 5  
     नाकोड़ाजी का मेला 
    नाकोड़ा तीर्थ मेवानगर  
    पोष वदी 10-11  
    विरातरा माताजी का मेला  
    वीरातरा  
    चैत्र, भाद्रपद एवं माघ माह में  
     बजरंग पशु मेला 
    सिणधरी  
    मंगसर वदी 3  

    बाड़मेर के प्रमुख मंदिर | बाड़मेर के शीर्ष मंदिर

    🔰 मल्लीनाथ मंदिर

    मल्लिनाथजी का समाधि स्थल मल्लीनाथजी का मंदिर तिलवाड़ा बाड़मेर में स्थित है। 

    🔰किराडू के मंदिर (राजस्थान का खजुराहो)

    किराडू की स्थापत्य कला नागर शैली की है। किराडू का प्राचीन नाम किरात कूप था। यह प्राचीन काल में परमार शासकों की राजधानी रही थी। बाड़मेर के हाथमा गांव के निकट एक पहाड़ी के नीचे किराडू में भगवान विष्णु व शिव मंदिर स्थित है। यहां पर प्रसिद्ध सोमेश्वर मंदिर भी स्थित है सोमेश्वर मंदिर किराडू का सबसे प्रमुख एवं बड़ा मंदिर है। किराडू को पुरातत्व, इतिहास, अध्यात्म की त्रिवेणी के नाम से जाना जाता है। यहां पर किराडू के मंदिर के अलावा सोमेश्वर मंदिर, शिव मंदिर, विष्णु मंदिर, रणछोड़ मंदिर, सचिया माता मंदिर स्थित है। किराडू मिथुन मूर्तियों की भव्यता का कारण राजस्थान का खजुराहो कहलाता है। 

    🔰ब्रह्मा का मंदिर (आसोतरा)

    सिद्ध पुरुष खेताराम जी महाराज द्वारा निर्मित ब्रह्मा का मंदिर आसोतरा (बाड़मेर) में स्थित है। 

    🔰श्री रणछोड़रायजी का खेड़ा मंदिर 

    यह हिंदुओं का प्रमुख पवित्र धाम है। यह लूणी नदी के किनारे स्थित है। खेड़ में भूरिया बाबा तथा खोड़िया बाबा रेबारियों/देवासियों के आराध्य देव है। यहां पर खोड़िया हनुमान मंदिर, पंचमुखी महादेव मंदिर आदि स्थित है। 

    🔰आलमजी का मंदिर 

    यह मंदिर एक ऊंचे धोरे पर बाड़मेर के धोरीमना क्षेत्र में स्थित है। 

    🔰श्री नाकोडा 

    मेवानगर के जैन तीर्थ के उपनाम से प्रसिद्ध श्री नाकोडा प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बालोतरा के पश्चिम में भाकरियाँ नामक पहाड़ी पर स्थित है। मुख्य मंदिर में 2वे जैन तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ की प्रतिमा विराजित है। प्रतिवर्ष तीर्थकर पार्श्वनाथ  के जन्म दिन पौष कृष्णा दशमी को एक विशाल मेला लगता है। 

    🔰विरातरा  माता का मंदिर 

    बाड़मेर के चौहटन तहसील में पहाड़ियों पर विरातरा  माता का एक भव्य मंदिर स्थित है।  विरातरा  माता भोपा जनजाति की कुलदेवी है। यहां पर प्रतिवर्ष माघ एवं भाद्रपद शुक्ला चतुर्दशी को एक विशाल मेला भरता है। 

    🔰मां नागणेची का मंदिर 

    राठौड़ों की कुलदेवी मां नागणेची का मंदिर बाड़मेर के नागाणा गांव में स्थित है। यहां देवी की लकड़ी की प्रतिमा विराजित है। 

    🔰अन्य मंदिर 


    जूना बाड़मेर, शिव मुंडी महादेव मंदिर, जसोल राणी भटियाणी का मंदिर आदि।

    बाड़मेर के दर्शनीय स्थल | बाड़मेर के पर्यटन स्थल


    ✍बाटाडू का कुआं 

    'रेगिस्तान के जल महल' के उपनाम से प्रसिद्ध बाटाडू का कुआ सफेद संगमरमर का बना हुआ है। यह कुआ बाड़मेर की बायतु पंचायत समिति क्षेत्र में स्थित है। इसका निर्माण रावल गुलाबसिंह द्वारा करवाया गया था। 

    ✍सिवाना दुर्ग 

    "मारवाड़ के शासकों की शरणस्थली" सिवाना दुर्ग बाड़मेर के सिवाना क्षेत्र में छप्पन की पहाड़ियां की हल्देश्वर पहाड़ी पर वीर नारायण पवार द्वारा निर्मित है। इसे कुमट दुर्ग भी कहा जाता है। अलाउद्दीन खिलजी द्वारा 1308 ईस्वी में सिवाना दुर्ग को जीत लिए जाने के बाद इसका नाम बदलकर खैराबाद रख दिया गया। 

    ✍राष्ट्रीय मरु उद्यान 

    बाड़मेर एवं जैसलमेर जिलों में विस्तृत राष्ट्रीय मरु उद्यान को 04 अगस्त, 1980 को वन्य जीव अभ्यारण्य घोषित किया गया। यह राजस्थान का क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा अभ्यारण्य है। इस अभ्यारण्य में लुप्तप्राय ग्रेट इंडियन बस्टर्ड (सोन चिड़िया/माल मोरड़ी/गोडावण ) पाए जाते है। इसमें 'आंकल वुड फोजिल्स पार्क' (जीवाश्म उद्यान/मरुस्थल पार्क ) स्थित है। 

    बाड़मेर में जल परियोजना | Barmer Me Jal Priyojna

    ✍ नर्मदा नहर परियोजना

    जालोर एवं बाड़मेर में सिंचाई हेतु इस सिंचाई परियोजना का प्रयोग किया जाता है। नर्मदा नहर राजस्थान के अंदर जालोर के सीलु गांव से प्रवेश करती है। 

    ✍ इंदिरा गाँधी नहर परियोजना

    इस नहर परियोजना को 'राजस्थान की मरूगंगा व राज्य की जीवन रेखा' के उपनाम से भी जानते है। इस परियोजना के जनक/योजनाकार "कंवर सेन" कहलाते है। उन्होंने 1948 में प्रकाशित अपनी पुस्तक "बीकानेर राज्य के लिए पानी की आवश्यकता" में इसका प्रारूप रखा था। 

    बाड़मेर में ऊर्जा संसाधन | Barmer me Urja ke Shadhan


    🔰 बाड़मेर में तेल के कुएँ  

    रागेश्वरी, भाग्यम, मंगला, ऐश्वर्या, सरस्वती आदि

    🔰 पेट्रोल 

    बोधिया गांव, मग्गा की ढाणी, चूनावाला आदि।

    🔰बाड़मेर में रिफाइनरी

    बाड़मेर के पचपदरा क्षेत्र के साजियावली गांव में सितम्बर 2013 में सोनिया गाँधी ने रिफाइनरी एवं पेट्रोकेमिकल कॉम्पेक्स का शिलान्यास किया था। 

    बाड़मेर में जल स्रोत/नदियां 

    ✍लूणी नदी

    लूणी नदी मुख्यतः मौसमी नदी है। इसका पानी बाड़मेर के बालोतरा से पहले मीठा होता है उसके बाद में खारा हो जाता है। लूणी नदी को 'लवण नदी' के उपनाम से भी जानते है। 

    ✍ पचपदरा झील

    इस नदी पर खारवाल जाति के लोग मोरली झाडी पद्धति द्वारा नमक के स्फटिक बनाते है। यहां से प्राप्त नमक सर्वश्रेष्ठ नमक होता है जिसमे 98% NaCl होता है। 

    बाड़मेर के अति महत्वपूर्ण प्रश्न/तथ्य | Barmer GK in Hindi


    • पत्थर मार होली बाड़मेर की प्रसिद्ध है। 
    • बाड़मेर का चौहटन क्षेत्र गोंद के लिए प्रसिद्ध है। 
    • समदड़ी गांव में संत पीपा का मंदिर है, जहां पर क्षेत्र पूर्णिमा को मेला भरता है। 
    • राजस्थान का बाड़मेर जिला पाकिस्तान के साथ अंतर्राष्ट्रीय सीमा एवं गुजरात राज्य के साथ अंतर्राज्यीय सीमा बनाता है। 
    • देश की पहली ओरण पंचायत - ढोंक गांव (बाड़मेर) में है। 
    • बाड़मेर की पाकिस्तान से लगने वाली अंतर्राष्ट्रीय सीमा की लम्बाई 228 किलोमीटर है। 
    • देश व राज्य की सर्वाधिक खारी झील - पचपदरा झील (बाड़मेर) में है। 
    • राज्य का पहला लिग्नाइट पर आधारित बिजली घर - गिरल में है। 
    • सर्वाधिक पंचायत समितियां (17) बाड़मेर में है। 
    • सर्वाधिक पशु सम्पदा (भेड़, बकरी, गधे, ऊँट, घोड़े ) वाला जिला बाड़मेर है। 
    • थार महोत्स्व एवं बेलून महोत्सव (अप्रेल में ) बाड़मेर में आयोजित होते है। 
    • अजरक प्रिंट एवं मलीर प्रिंट बाड़मेर की प्रसिद्ध है। 
    • कोटड़ा का किला बाड़मेर में स्थित है। 
    • खूबड़ माता का मंदिर एवं गरीबनाथ का मंदिर बाड़मेर में स्थित है। 
    • गडरा का शहीद स्मारक - 1965 में शहीद रेल कर्मचारियों का स्मारक गडरारोड (बाड़मेर ) में है। 
    • प्रसिद्ध लोकदेवता रामदेवजी का जन्म बाड़मेर जिले की शिव तहसील के उडुकाशमेर गांव में हुआ था। 
    • बालोतरा में टेक्सटाइल पार्क स्थित है। 
    • बाड़मेर में पेयजल की समस्या के निराकरण के लिए 'सुजलम परियोजना' चलाई जा रही है। 
    आज की इस पोस्ट में हमने "राजस्थान के जिला दर्शन' की श्रृंखला में "बाड़मेर जिला दर्शन" को पूरी तरह से कवर करने की कोशिश की है। साथ ही हर संभव बाड़मेर पर जितने भी प्रश्न बन सकते थे,को शामिल किया गया है। इसमें बाड़मेर का सामान्य परिचय, बाड़मेर के उपनाम, 2011 की जनगणना के अनुसार बाड़मेर की जनसँख्या/घनत्व/लिंगानुपात, बाड़मेर का क्षेत्रफल, बाड़मेर की मानचित्र में स्थिति, बाड़मेर के विधानसभा क्षेत्र,बाड़मेर के प्रमुख मेले, बाड़मेर के प्रमुख मंदिर, बाड़मेर के पर्यटन स्थल, बाड़मेर की नदियां एवं बांध एवं इसके अलावा भी जितने भी मोस्ट इम्पोर्टेन्ट प्रश्न बन सकते थे, उन सभी को शामिल कर पेश किया गया है। उम्मीद करती हूँ कि आपको मेरी यह पोस्ट अच्छी लगी होंगी। आपको यह पोस्ट कैसी लगी आप मुझे Comment करके जरूर बताये। 

    Tag: Barmer District GK in Hindi, barmer, barmer district, barmer district gk, barmer district all gk, barmer district bstc gk, barmer district railway gk, barmer district rajasthan gk, barmer district (indian district), facts of barmer district, barmer district kiradu rajsthan, barmer rajasthan, barmer jila darsan, district wise rajasthan gk, important facts of barmer district of rajasthan, rajasthan gk, brahma mandir barmer rajasthan gk. 



    हमसे जुड़े

    Educational Facebook Group

    Join

    PDF/Educational Telegram Group

    Join

    Educational Facebook Page

    Join