हिंदी व्याकरण : मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ , HINDI VYAKARAN, LOKOKTIYAN EVM MUHAVRE

हिंदी व्याकरण : मुहावरे एवं लोकोक्तियाँ 

मुहावरा : सामान्य अर्थ का बोध न कराकर विशेष अथवा विलक्षण अर्थ का बोध कराने वाले पदबंध को मुहावरे कहते है। 

लोकोक्तियाँ : लोकोक्तियाँ लोक अनुभव से बनती है। लोगों ने जो कुछ अपने लम्बे अनुभव से सीखा है और उसे वाक्यों में बांध दिया है उसे लोकोक्ति कहते है। 

लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे में अंतर | लोकोक्तियाँ और मुहावरे में अंतर 

मुहावरा वाक्यांश  होता है। इसका स्वतंत्र रूप से प्रयोग नहीं किया जा सकता है। मुहावरे का प्रयोग किसी वाक्य में किया जाता है। जबकि 
लोकोक्ति सम्पूर्ण वाक्य होती है जिसका प्रयोग स्वतंत्र  रूप से किया जा सकता है। 

कुछ प्रचलित मुहावरे एवं लोकोक्तियां लिस्ट 

    • अंग अंग खिल उठना - प्रसन्न हो जाना।
    • अंग अंग टूटना - सारे बदन में दर्द होना।
    • अंग अंग मुस्कुराना - बहुत प्रसन्न होना।
    • अंग अंग फूला ना समाना - बहुत आनंदित होना।
    • अंग छूना - कसम खाना।
    • अंग अंग ढीला होना - बहुत थक जाना।
    • अंग लगाना - लिपटाना।
    • अंगड़ाना - अंगड़ाई लेना, जबरन पहन लेना।
    • अंगारा होना - क्रोध में लाल हो जाना।
    • अंकुश रखना - नियंत्रण रखना।
    • अंगारे उगलना - जली कटी सुनाना।
    • अंगूठा दिखाना - निराश करना या तिरस्कारपूर्वक मना करना।
    • अंगारों पर पैर रखना - जोखिम मोल लेना।
    • अंगूर खट्टे होना - प्राप्त ना होने पर उस वस्तु को रद्दी बताना।
    • अंगूठे पर मारना - परवाह न करना।
    • अंजर-पंजर ढीला होना - अंग-अंग ढीला होना।
    • अंधा बनाना - ठगना।
    • अंडा फूट जाना - भेद खुल जाना।
    • अंधे को चिराग दिखाना - मुर्ख उपदेश देना।
    • अंधेर खाता होना - अव्यवस्था होना।
    • अंधाधुंध - बिना सोचे-विचारे।
    • अंधानुकरण करना - बिना विचारे अनुकरण करना।
    • अंधों में काना राजा - अयोग्य व्यक्तियों के बीच कम योग्य भी बहुत योग्य होता है।
    • अंधेर नगरी - वह स्थान जहां कोई नियम व्यवस्था ना हो।
    • अंधेरे घर का उजाला - अति सुंदर/इकलौती संतान।
    • अंधे के हाथ बटेर लगना - बिना प्रयास भारी चीज पा लेना।
    • अंधेरे में रखना - भेद छिपाना।
    • अक्ल चकराना - कुछ समझ में ना आना।
    • अक्ल का दुश्मन - मूर्ख।
    • अक्ल आना - समझ आना।
    • अक्ल का अंधा होना - बेअकल होना।
    • अक्ल का कसूर - बुद्धिदोष।
    • अक्ल के घोड़े दौड़ाना - कोरी कल्पनाएं करना।
    • अक्ल जाती रहना - घबरा जाना।
    • अक्ल काम ना करना - कुछ समझ में ना आना।
    • अक्ल का पुतला - बुद्धिमान।
    • अक्ल पर पत्थर पड़ना - बुद्धि से काम ना लेना।
    • अपना उल्लू सीधा करना - अपना स्वार्थ सिद्ध करना।
    • अक्ल ठिकाने होना - होश में आना।
    • अक्ल के तोते उड़ना - होश ठिकाने नहीं रहना।
    • अकल से दूर होना - समझ में ना आना।
    • अक्ल चरने जाना - बुद्धि का ना होना।
    • अक्ल के पीछे लट्ठ  लिए फिरना - मूर्खता का काम करना।
    • अपना-सा मुंह लेकर रह जाना - लज्जित होना।
    • अड़ पकड़ना - जिद करना।

    कुछ प्रचलित मुहावरे एवं लोकोक्तियां

      • अठखेलियां करना - किलोल करना।
      • अपने पैरों पर खड़ा होना - स्वावलंबी होना।
      • अपना राग अलापना - अपनी बातों पर बल देना।
      • अरमान निकालना - मन का गुबार पूरा करना।
      • अगर मगर करना - बहाना करना।
      • अपने मुंह मियां मिट्ठू बनाना - अपनी प्रशंसा खुद करना।
      • अटकलें भिड़ाना  - उपाय सोचना।
      • अक्षर से भेट न होना - अनपढ़ होना।
      • अड़ंगा करना - होते कार्य में बाधा डालना।
      • अदब करना - सम्मान करना।
      • अधूरा जाना - असमय गर्भपात होना।
      • अनी  की चोट - सामने की चोट।
      • अपनी-अपनी पड़ना - सबको अपनी चिंता होना।
      • अधर में झूलना - दुविधा में रहना।
      • अपनी नींद सोना - इच्छानुसार कार्य करना।
      • अनसुनी करना - जानबूझकर उपेक्षा करना।
      • अरणय रोदन - निष्फल निवेदन।
      • आंख का तारा होना - बहुत प्यारा होना।
      • अवसर चुकाना  - सुयोग का लाभ न उठाना।
      • अवसर ताकना - मौका ढूंढना।
      • आंख उठाना - क्रोध से देखना।
      • अपना हाथ जगन्नाथ - स्वाधिकार होना।
      • आंख बंद कर काम करना - ध्यान ना देना।
      • आंख तरसना - देखने के लिए लालायित होना।
      • आंखें सेंकना - सुंदर वस्तु को देखते रहना।
      • आंख खुलना - होश आना।
      • आंख फेर लेना - प्रतिकूल होना।
      • आंख चुराना - छिपाना।
      • आंख बिछाना - प्रतीक्षा करना।
      • आंख लगना - नींद आना अथवा प्यार होना।
      • आंखों में समाना - दिल में बस जाना।
      • आंखों पर परदा पड़ना - लोभ के कारण सच्चाई ना दिखना।
      • आंख उठाना - देखने का साहस करना।
      • आंखें चार होना -  आमने-सामने होना।
      • आंखें बिछाना - प्रेम से स्वागत करना।
      • आंखों में धूल झोंकना - धोखा देना।
      • आंखों का पानी ढलना - निर्लज्ज बन जाना।
      • आंखों में रात काटना - रात भर जागते रहना।
      • आंखों पर बिठाना - आदर करना।
      • आंखें पथरा जाना - देखते-देखते थक जाना।
      • आंखें फेरना - बदल जाना।

      हिंदी मुहावरे और लोकोक्तियाँ

      • आंखों से गिरना - आदर समाप्त होना।
      • आंखों का कांटा होना - बुरा लगना।
      • आंच ना आने देना - थोड़ी भी हानी ना होने देना।
      • आंखों पर परदा पड़ना - बुद्धि भ्रष्ट होना।
      • आकाश-पाताल एक करना  -  कठिन प्रयत्न करना।
      • आग से खेलना - जानबूझकर मुसीबत में फंसना।
      • आकाश के तारे तोड़ना - असंभव कार्य करना।
      • आग में घी डालना - क्रोध और अधिक बढ़ाना।
      • आसमान से बातें करना - ऊँची कल्पना करना।
      • आग पर पानी डालना - उत्तेजित व्यक्ति को शांत करना।
      • आड़े हाथ लेना -  खरी-खरी सुनाना।
      • आटे-दाल का भाव मालूम होना -  कठिनाई में पड़ जाना।
      • आंचल पसारना - भीख मांगना।
      • आसमान सिर पर उठाना - बहुत शोर करना।
      • आंसू पीकर रह जाना - भीतर ही भीतर दु:खी होना।
      • आंधी के आम होना - बहुत सस्ती वस्तु मिलना।
      • आसमान पर चढ़ना - बहुत अधिक अभिमान करना।
      • आपे से बाहर होना - अत्यधिक क्रोध से काबू में ना रहना।
      • आंसू पौछना  - धीरज देना।
      • आकाश का फूल - अप्राप्य वस्तु।
      • आकाश चूमना - बहुत ऊंचा होना।
      • आसमान पर उड़ना - अभिमानी होना।
      • आग बबूला होना - बहुत क्रोधित होना।
      • आटे के साथ घुन पिसना - दोषी के साथ निर्दोषी को भी हानि होना।
      • आस्तीन का सांप - विश्वासघाती मित्र।
      • आग लगाकर तमाशा देखना - झगड़ा पैदा करके खुश होना।
      • आग पानी का बेर - स्वाभाविक शत्रुता।
      • आग लगने पर कुआं खोदना - पहले पहले से कोई उपाय ना कर रखना।
      • आसमान फट पड़ना - अचनाक आफत आ पड़ना।  
      • आंचल देना - दूध पिलाना। 
      • अंचल फैलाना - अति विनम्रतापूर्वक प्रार्थना करना। 
      • आंसू गिराना - रोना। 
      • आकाश-कुसुम - अनहोनी बात। 
      • अंचल में गांठ बांधना - अच्छी तरह याद कर लेना। 
      • आकाश खुलना - बादल हटना। 
      • आग का पुतला - बहुत क्रोधी।  
      • आग के मोल - बहुत महंगा। 
      • आंधी उठना - हलचल मचना।  
      • आंसुओं से मुंह धोना - बहुत रोना। 
      • आकाश पाताल का अंतर होना - बहुत बड़ा अंतर होना। 
      • आकाश कुसुम - अनहोनी बात। 
      • आग लगाना - झगड़ा कराना। 
      • आग पर लोटना - बेचैन होना। 
      • आग बुझा लेना - कसर निकालना। 
      • आग से पानी होना - क्रोधावस्था से एकदम शांत हो जाना। 
      • आग में कूदना - स्वयं को खतरे में डालना। 
      • आगे पीछे की सोचना - भावी परिणाम पर दृष्टि रखना। 
      • आगे करना - हाजिर करना। 
      • आगे होकर फिरना - आगे बढ़कर स्वागत करना। 
      • ईट का जवाब पत्थर से देना - किसी के आरोप का करारा जवाब देना। 
      • ईट से ईट बजाना - विनाश करना। 
      • ईद का चांद होना - बहुत दिनों बाद दिखाई देना। 
      • उंगली पर नचाना - अपनी इच्छानुसार चलाना। 
      • उल्लू बनाना - मूर्ख बनाना। 
      • उड़ती चिड़िया पहचानना - किसी की गुप्त बात जान लेना। 
      • उन्नीस बीस का अंतर होना - बहुत कम अंतर होना। 
      • उल्टी गंगा बहाना - नियम के विरुद्ध कार्य करना। 
      • एक आंख से देखना - सबको बराबर समझना। 
      • एक और एक ग्यारह होना - मेल में शक्ति होना। 
      • एक लाठी से हांकना - अच्छे बुरे का विचार किए बिना समान व्यवहार करना। 
      • एक ही थैली के चट्टे-बट्टे होना -  सभी समान रूप से बुरे व्यक्ति होना।
      •  एक ही नौका में सवार होना - एक समान परिस्थिति में होना।
      • ओखली में सिर झोंकना - जानबूझकर झंझट में पड़ना। 
      TAG : लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे में अंतर , लोकोक्तियाँ एवं मुहावरे , हिंदी मुहावरे और लोकोक्तियां पीडीऍफ़ डाउनलोड , हिंदी मुहावरे और उनके अर्थ, 


      हमसे जुड़े

      Educational Facebook Group

      Join

      PDF/Educational Telegram Group

      Join

      Educational Facebook Page

      Join